बेवफाओं का जमाना है थोड़ा संभलकर प्यार करो

 *बेवफाओं का जमाना है थोड़ा संभलकर प्यार करो:-

बेवफाओं का जमाना है थोड़ा संभलकर प्यार करो।


दिल को अपने साइड में रखकर थोड़ा दिमाग का भी इस्तमाल करो ,
और बेवफाओं का जमाना है भाइयों थोड़ा संभलकर प्यार करो।
तुम उसे मानाने जाओगे वो तुम्हे रुलाने आएगी ,
जो हसीं दे कर के आंसू दे उसपर न एतबार करो ,
और बेवफाओं का जमाना है थोड़ा संभलकर प्यार करो। 
तुम उसे सारे राज बताओगे , वो तुमसे अपने सारे राज छुपाएगी ,
और प्यारी-प्यारी बातें करके तुमको वो बहलाएगी। 
चेहरों को तुम पढ़ना सीखो , खुद को थोड़ा तैयार करो ,
और बेवफाओं का जमाना है थोड़ा संभलकर प्यार करो। 
तुम उससे मिलने जाओगे , वो किसी और से मिलकर आएगी ,
शादी का वादा कर तुमसे वो अपना सारा खर्चा उठवाएगी। 
बुलाए कोई भी मिलने अगर तुमको , तो झट से तुम इंकार करो ,
क्योकि बेवफाओं का जमाना है थोड़ा संभलकर प्यार करो। 
तुम उसमे खोता जायेगा वो किसी और की हो जाएगी ,
और जब मन भर जायेगा तुमसे उसका ,
किसी और का वो हो जाएगी। 
जो पल-पल बदले घर अपना ऐसे परिन्दे को तुम आजाद करो ,
और बेवफाओं का जमाना है थोड़ा संभलकर प्यार करो। 
लड़को में है गजब की खूबी वो सब पहचान लेता है ,
और किसकी नियत कैसी है बस आँखों से जान लेता है। 
तो भाई तुम भी अपनी खूबी को ऐसे न बर्बाद करो ,
और अच्छे लड़कियाँ भी है यहाँ बस अपनी खूबी का इस्तेमाल करो। 
और बेवफाओं का जमाना है यार थोड़ा संभलकर प्यार करो।  
की दिल को अपने साइड में रखकर अपने दिमाग का इस्तेमाल करो ,
और बेवफाओं का जमाना है थोड़ा संभलकर प्यार करो। 

Post a Comment

0 Comments