मेरी जान अब तू मुझे देखने को भी तरस जाएगी।

 Hindi Poetry में आप सभी लोगो का स्वागत है , दोस्तों अगर आपलोगो को Poetry पढ़ना अच्छा लगता है तो आप बिलकुल सही वेबसाइट पर आये है। हमारे वेबसाइट में Hindi me Kabita,Poems of Life in HindiLovers Life Poem in Hindi, Breakup Poems in Hindi  इन सभी Topics के ऊपर हिंदी में कबिताएँ होती है। तो चलाए आज की poetry शुरू करते है।

*मेरी जान अब तू मुझे देखने को भी तरस जाएगी:-

मेरी जान अब तू मुझे देखने को भी तरस जाएगी
आज नही तो कल तुझे मेरे प्यार का एहसास हो ही जाएगा,
ओर मेरी जान अब तू मुझे देखने को भी तरस जाएगी,
की पता नहीं था इतना प्यार अचानक कैसे हो गया,
तुझे होता था सबसे मुझे तुझसे हो गया,
पर तुझे क्या लगा तू मेरे साथ भी ओरो की तरह खेल जायगी,
तो सुनो मेरी जान अब तू मुझे देखने को भी तरस जाएगी।
पहले ही कहा था मेने तुझसे की में बर्दाश्त नही कर पाऊंगा,
ओर एक बार टुटा तो दुबारा भरोसा नही कर पाऊंगा,
पर मुझे लगता हैं कि शायद तुझसे नही हो पायेगा,
ओर मेरी जान एक दिन तू मुझे देखने को भी तरस जायगी।
कैसे बताऊ तुझे की कैसा हाल हो जाता हैं,
ओर उसके सिवा कोई भी अच्छा नहीं लगता,
 जब किसी से प्यार हो जाता हैं,
पर तुझे भी ये तब समझ आयगा जब तू मुझसे काफी दूर चली जायेगी,
ओर मेरी जान अब तू मुझे देखने को भी तरस जायगी।
कह तो आसानी से देते है पर निभा नही पाते हैं लोग,
ओर सच्ची मोहब्बत को अक्सर समझ नहीं पाते है लोग,
कुछ पल चाँदनी के चक्कर में तेरा चाँद ही खो जाएगा,
ओर मेरी जान अब तू मुझे देखने को भी तरस जाएगी,
एक न एक दिन तुझे मेरे प्यार का एहसास हो ही जायेगा,
उस दिन तू मुझे देखने को भी तरस जायगी।

Post a Comment

0 Comments